इस अवॉर्ड का हकदार मैं नहीं था… उसने कहा कि शतक लगाकर ही वापस जाना, क्लासेन ने सेंचुरी के पीछे की कहानी बताई


हाइलाइट्स

क्लासेन को किसने शतक के लिए किया प्रेरित
मैच के बाद प्रोटियाज बैटर ने खोला राज

नई दिल्ली. साउथ अफ्रीका की मौजूदा वर्ल्ड चैंपियन इंग्लैंड (SA vs ENG) के खिलाफ बड़ी जीत दिलाने में हेनरिच क्लासेन (Heinrich Klaasen) का अहम रोल रहा. क्लासेन ने मुश्किल समय में ताबड़तोड़ पारी खेलकर प्रोटियाज टीम का स्कोर 400 के करीब पहुंचाया. साउथ अफ्रीका ने इंग्लैंड को 229 रन से पराजित किया जो वर्ल्ड कप के इतिहास में ज्वाइंट रूप से छठी सबसे बड़ी जीत है. क्लासेन को उनकी शानदार शतकीय पारी के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया. हालांकि अवॉर्ड के दौरान क्लासेन ने बताया कि इस अवॉर्ड का हकदार वह नहीं बल्कि कोई और है. क्लासेन ने यह भी बताया कि किसने उन्हें सेंचुरी के लिए मोटिवेट किया.

दक्षिण अफ्रीका ने 7 विकेट पर 399 रन बनाने के बाद इंग्लैंड की पारी को 22 ओवर में  170 रन पर समेट दिया. इंग्लैंड के रीस टॉपली ने बल्लेबाजी नहीं की. इस हार के बाद इंग्लैंड की टीम अंक तालिका में चार मैचों में तीन हार के बाद नौवें स्थान पर खिसक गई है. दक्षिण अफ्रीका तीन जीत के साथ तीसरे स्थान पर आ गया.

न्यूजीलैंड के खिलाफ मुकाबले से पहले टीम इंडिया को दोहरा झटका, स्टार बैटर प्रैक्टिस सेशन में हुआ चोटिल, छोड़ा मैदान

क्लासेन की ‘क्लासिक’ पारी से जीत की पटरी पर लौटा साउथ अफ्रीका, मौजूदा चैंपियन इंग्लैंड को 229 रन से रौंदा

क्लासेन और यानसेन ने 151 रन जोड़े
प्लेयर ऑफ द मैच क्लासेन ने मैच के बाद पोस्ट प्रजेंटेशन सेरेमनी में कहा, ‘यह मेरा अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन (शतक) है. परिस्थितियां बहुत मुश्किल थीं. इतनी गर्मी थी कि सारी ऊर्जा खत्म हो गई. मुझसे कहा गया कि मैं दौड़ कर ज्यादा रन नहीं बनाउं और अपनी ऊर्जा बचाकर रखूं.’क्लासेन और मार्को यानसेन ने छठे विकेट के लिए 151 रन जोड़े. यह वनडे में इस विकेट के लिए दक्षिण अफ्रीका के लिए सबसे बड़ी साझेदारी है. उन्होंने जिसने हैंसी क्रोन्ये और शॉन पोलक के बीच 137 रन की साझेदारी को पीछे छोड़ दिया.

यानसेन ने मुझे शतक के लिए प्रेरित किया
क्लासेन ने कहा कि यानसेन (42 गेंद में नाबाद 75 रन और दो विकेट) अपने हरफनमौला खेल के लिए ‘मैन ऑफ द मैच’ खिताब के दावेदार थे. बकौल यानसेन, ‘यानसेन ने आज अलग स्तर का प्रदर्शन किया. उसने मेरी पारी में मदद की और उसे यह पुरस्कार मिलना चाहिए था. उसके रन बहुत महत्वपूर्ण हैं. यानसेन ने मुझे शतक के लिए प्रेरित किया. उन्होंने मुझे कहा कि तुम्हें बिना शतक बनाए नहीं जाना है.’

Tags: England vs south Africa, ODI World Cup

Leave a Comment