10 साल से 1 वनडे खेलने को तरसा गेंदबाज, वेस्टइंडीज के खिलाफ खत्म होगा इंतजार, द्रविड़ देंगे आखिरी मैच में मौका?


नई दिल्ली. वेस्टइंडीज के खिलाफ भारतीय टीम तीन मैचों की वनडे सीरीज के दूसरे मुकाबले में हारने के बाद 1-1 की बराबरी पर आ गई है. अब 1 अगस्त को सीरीज पर कब्जा जमाने के लिए टीम इंडिया को मेजबान के खिलाफ उतरना है. दूसरे मुकाबले में कोच राहुल द्रविड़ ने कप्तान रोहित शर्मा और सीनियर विराट कोहली को बाहर बिठाया. कप्तानी हार्दिक पंड्या के हाथों में थी लेकिन वह जीत हासिल नहीं कर पाए. आखिरी वनडे में प्लेइंग इलेवन में बदलाव तय है लेकिन देखना होगा क्या 10 साल से एक वनडे खेलने का इंतजार कर रहे गेंदबाज को मौका मिल पाएगा.

भारत और वेस्टइंडीज के बीच खेला जाने वाले तीसरा वनडे मुकाबला बेहद अहम होगा. पहला वनडे जीतकर टीम इंडिया ने दमदार शुरुआत की थी लेकिन दूसरे मैच में कोच और कप्तान के प्रयोग की वजह से टीम को हार मिली. अब तीसरे मैच में भी अगर उसी बदलाव के साथ भारतीय टीम खेलने उतरी को जीत मुश्किल हो जाएगी. 2006 के बाद से भारत ने वेस्टइंडीज के खिलाफ कोई सीरीज नहीं गंवाई और एक हार सबकुछ खराब कर सकता है.

10 साल से वनडे मैच खेलने का इंतजार

भारतीय टीम के 31 साल के अनुभवी तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट ने 10 साल पहले यानी 2013 में वनडे मैच खेला था. वेस्टइंडीज के खिलाफ ही अपना आखिरी वनडे मैच खेलकर टीम से बाहर हुए जयदेव को अब इसी टीम साथ वापसी का मौका मिल सकता है. कोच द्रविड़ अगर उनको प्लेइंग इलेवन में जगह देते हैं तो 10 साल से उनका चला आ रहा इंतजार खत्म हो जाएगा.

धौनी की कप्तानी में खेला आखिरी वनडे

नवंबर 2013 में कोच्चि वनडे में वेस्टइंडीज के खिलाफ आखिरी बार टीम इंडिया की तरफ से जयदेव ने मैच खेला था. उस वक्त कप्तानी महेंद्र सिंह धोनी के हाथों में थी और टीम में युवराज सिंह और सुरेश रैना जैसे धुरंधर शामिल थे. कमाल की बात है ये सभी संन्यास ले चुके हैं और जयदेव ने अब टीम में वापसी की है. उनके कमबैक वनडे मैच का फैसला द्रविड़ और रोहित के एक फैसले पर टिका है.

Tags: India vs west indies, Jaydev unadkat

Leave a Comment