IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड से बदला तो ले लिया, पर बड़ी कमजोरी सामने आई, आगे देनी पड़ेगी कुर्बानी


हाइलाइट्स

भारत ने विश्व कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ 20 साल बाद जीत दर्ज की
टीम इंडिया को छठे गेंदबाज का विकल्प न होना भारी पड़ा

नई दिल्ली. 20 साल का हिसाब आखिरकार बराबर हो ही गया और करोड़ों भारतीय क्रिकेट फैंस की मुराद पूरी हो गई. विश्व कप 2023 में रविवार को भारत ने न्यूजीलैंड को 4 विकेट से हराया. 2003 के बाद भारत पहली बार वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड से जीता और 2019 के वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से मिली हार का बदला भी पूरा हो गया. इस जीत के मायने इसलिए भी खास हैं कि अब भारत अंक तालिका में 5 मैच में 10 अंकों के साथ टॉप पर पहुंच गया. भारत ने सभी पांचों मैच रन चेज करते हुए जीते. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मुकाबले को छोड़ दें, जिसमें भारत शुरुआत में दबाव में था, टीम इंडिया ने बाकी चार मैच बड़ी आसानी से जीते. हालांकि, न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत के बाद भी टीम इंडिया की बड़ी कमजोरी सामने आई, जिसके लिए आगे के मुकाबलों में कुर्बानी देनी पड़ सकती है.

न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में टीम इंडिया बिना हार्दिक पंड्या के उतरी थी. वो टखने में चोट के कारण इस मैच में नहीं खेल पाए. हार्दिक जैसे खिलाड़ी की भरपाई करना आसान नहीं था. उनके नहीं रहने के कारण रोहित को प्लेइंग-11 में दो बदलाव करने पड़े. इस वजह से बतौर ऑलराउंडर खेल रहे शार्दुल ठाकुर को बाहर किया गया और उनके स्थान पर मोहम्मद शमी आए जबकि हार्दिक के स्थान पर एक बैटर के तौर पर सूर्यकुमार यादव को खिलाया गया. इस वजह से भारत इस मैच में 5 गेंदबाज के साथ ही उतरा और यही बड़ी परेशानी बन गई.

न्यूजीलैंड के खिलाफ खली छठे गेंदबाज की कमी खली
शुरुआती झटकों के बाद रचिन रवींद्र और डेरिल मिचेल ने न सिर्फ न्यूजीलैंड की पारी संभाली, बल्कि 10 ओवर के बाद तेजी से रन भी बटोरे. इन दोनों ही बैटर्स ने सभी भारतीय गेंदबाजों के खिलाफ आक्रामक रुख अपनाया. इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि न्यूजीलैंड का स्कोर पहले 10 ओवर में 34/2 पर था लेकिन 30 ओवर में ये स्कोर दो विकेट के नुकसान पर 147 रन हो गया. यानी अगले 20 ओवर में इस जोड़ी ने 113 रन बनाए और विकेट भी नहीं गिरने दिया. बीच के ओवर में इन दोनों ने कुलदीप यादव पर अटैक किया और उनकी गेंदों पर खूब छक्के उड़ाए. उस समय कप्तान रोहित शर्मा को छठे गेंदबाज की कमी सबसे ज्यादा खली. इस जोड़ी ने तीसरे विकेट के लिए 152 गेंद में 159 रन जोड़े.

बीच के ओवर में कुलदीप महंगे साबित हुए
वो तो भारतीय गेंदबाजों ने आखिरी 10 ओवर में शानदार वापसी की और महज 54 रन दिए और 6 विकेट झटके. नहीं तो न्यूजीलैंड का स्कोर 300 के पार आसानी से पहुंच जाता और उस सूरत में मैच का नतीजा किसी भी तरफ जा सकता था. यानी ये साफ हो गया कि भारत के लिए पांच गेंदबाज के साथ उतरना जोखिम भरा रहेगा. अगर कोई एक गेंदबाज महंगा साबित हुआ तो फिर बाकी पर दबाव बढ़ेगा. ऐसे में अगले मुकाबों में टीम इंडिया को अतिरिक्त गेंदबाज खिलाना होगा. इसके लिए अगर एक बल्लेबाज की कुर्बानी भी देनी पड़े तो टीम के संतुलन के लिए ऐसा करना भारतीय टीम के लिए जरूरी है.

IND vs NZ: न्यूजीलैंड से किया टीम इंडिया ने हिसाब बराबर, फिर भी रोहित शर्मा खुश नहीं, दो बात का है मलाल

न्यूजीलैंड ने बाकी टीमों को सिखाया सबक
अब तक इस विश्व कप में टीम इंडिया की गेंदबाजी शानदार रही है. किसी भी टीम ने भारत के खिलाफ 300 प्लस स्कोर नहीं किया है. नई गेंद के साथ-साथ बीच के ओवर में भी गेंदबाजों ने विकेट निकाले हैं. खासतौर पर रवींद्र जडेजा और कुलदीप यादव शुरुआती चारों मैच में बीच के ओवर में विरोधी टीम के बल्लेबाजों पर लगाम कसने में सफल रहे थे लेकिन न्यूजीलैंड ने टीम इंडिया की इसी ताकत पर हमला किया और बीच के ओवर में रचिन रवींद्र और डेरिल मिचेल ने कुलदीप यादव के खिलाफ बड़े शॉट्स लगाए.

World Cup Live Update: भारत ने खोला जीत का ‘पंजा’, पाकिस्तान की आज अफगानिस्तान से टक्कर

इन दोनों ने कुलदीप के खिलाफ 4 छक्के मारे. इस चाइनामैन स्पिनर ने पहले पहले 5 ओवर में 48 रन दिए थे लेकिन अगली 30 गेंदों में सिर्फ 25 रन दिए और दो विकेट भी झटे ये अलग बात है कि कुलदीप ने बाद में वापसी की और 2 विकेट भी निकाले. हार के बावजूद न्यूजीलैंड ने बाकी टीमों को भारत को बैकफुट पर धकेलने और दबाव में लाने का आइडिया जरूर दे दिया.

Tags: Hardik Pandya, India vs new zealand, Kuldeep Yadav, Rohit sharma, World cup 2023

Leave a Comment